Home राज्य उत्तर प्रदेश सरदार सेना के बैकवर्ड आरक्षण बढाओ जनांदोलन में उमड़ा जनसैलाब

सरदार सेना के बैकवर्ड आरक्षण बढाओ जनांदोलन में उमड़ा जनसैलाब

24,017 total views, 3 views today

पिछडो के साथ अन्याय नही रुका तो अंजाम हो सकता है हिंसात्मक- डॉ आर एस पटेल

अम्बेडकर नगर। सरदार सेना जिला इकाई अम्बेडकर नगर द्वारा रविवार को दोस्तपुर रिंग रोड से पुरानी तहसील होते हुए जिला मुख्यालय तक ‘बैकवर्ड आरक्षण बढ़ाओ जनान्दोलन’ लगभग 8 किलोमीटर तक लंबी पदयात्रा कर निकाला गया। जो मुख्यालय पर राष्ट्रपति व राज्यपाल महोदय को नामित ज्ञापन जिलाधिकारी द्वारा सौंप कर समापन किया गया।

बताते चले कि उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा पिछड़ों के 27 % आरक्षण को विभाजित करके प्राय: शून्य करने की साजिश रचा है। इसी तरह केन्द्र सरकार ने विश्वविद्यालयों में 13 प्वाइंट रोस्टर प्रणाली लागू कर विश्वविद्यालयों से भी ओबीसी/एससी/एसटी के आरक्षण को समाप्त जैसा कर दिया है। जिसके खिलाफ सरदार सेना सामाजिक संगठन द्वारा बैकवर्ड आरक्षण बढ़ाओ जनान्दोलन करके 27 न बटने देगे- 57 अब लेकर रहेगें के साथ ही विश्वविद्यालयों में 200 पाइंट रोस्टर प्रणाली तत्काल लागू करने की मांग को लेकर आन्दोलन छेड़ दिया है। सरदार सेना बीते वर्षो में भी आरक्षण के मुद्दे पर आरक्षण बचाओ हँुकार रैली व आन्दोलन कर चुकी है। वर्तमान में योगी सरकार ने पिछड़ों के आरक्षण को कई टुकड़ों में विभाजित करके पिछड़ों के 27% आरक्षण को निष्प्रभावी करने का साजिश रचा है जिससे समस्त ओबीसी में रोष है। उपरोक्त बातें सरदार सेना सरदार सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा. आर. एस. पटेल ने कही।

सरदार सेना 27 ना बटने देंगे 57 अब लेकर रहेंगे के मुद्दे के साथ तथा 13 पाइंट रोस्टर के खिलाफ भी लड़ाई लड़ने जा रही है। उन्होंने कहा कि कुछ सालों से विश्वविद्यालयों में संपूर्ण वैकेंसी पर ओबीसी को 27% एससी को 15% और एसटी को 7.5%आरक्षण लागू होता था लेकिन कुछ दिन पहले केन्द्र सरकार द्वारा इसे हटाकर विभाग वार आरक्षण लागू कर दिया गया।

केन्द्र सरकार एवं न्यापालिका ने मिलकर देशभर के यूनिवर्सिटी में एससी/एसटी/ओबीसी का आरक्षण समाप्त कर दिया है बीते 22 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट ने विभागवार आरक्षण को ही सही ठहराया है। मतलब साफ है कि विभागवार मतलब उच्च शिक्षण संस्थानों में सम्पूर्ण पिछड़े समाज का आरक्षण शून्य जैसा कर दिया गया।

उन्होंने कहा कि उपरोक्त तमाम मुद्दों को लेकर सरदार सेना सामाजिक संगठन लगातार आरक्षण के मुद्दे पर आंदोलित रही है। बताते चलें कि इस आन्दोलन के द्वारा सरदार सेना न्यायपालिका विधायिका पत्रकारिता सहित देशभर के सभी सरकारी एवं अर्द्धसरकारी अथवा संविदा के संस्थानों में निम्न से लेकर उच्च स्तर के सभी पदों पर पिछड़े और दलित के आबादी के अनुसार आरक्षण की मांग करेगी।

इस दौरान राष्ट्रीय महासचिव आरडी पटेल, प्रदेश महासचिव आत्माराम पटेल, युवा मंडल अध्यक्ष चंदन पटेल, जिलाध्यक्ष चन्द्रेश वर्मा, विनोद, मनोज, सर्वेश पटेल, आशुतोष, धर्मेन्द्र, प्रदीप वर्मा, उर्मिला गोंड सहित हजारों की संख्या में लोग शामिल रहे।

Khabarvision.com
Load More Related Articles
Load More By Raj Kumar
Load More In उत्तर प्रदेश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

दिल्ली : आचार संहिता लागू, 4 दिन में हटे 60 हजार से अधिक पोस्टर, बैनर-होर्डिंग

41,593 total views, 1,358 views today नई दिल्ली। चुनाव आचार संहिता लागू होने के …