Home मंडल वाराणसी मंडल वाराणसी सरदार पटेल जयंती को राष्ट्रीय अवकाश घोषित करें मोदी नहीं तो होगा महाआंदोलन- डॉ. आर. एस. पटेल

सरदार पटेल जयंती को राष्ट्रीय अवकाश घोषित करें मोदी नहीं तो होगा महाआंदोलन- डॉ. आर. एस. पटेल

28,592 total views, 25 views today

कहा- देश व प्रदेश की सरकारे महापुरुषों की कर रही उपेक्षा 

वाराणसी। युवा जनता दल यूनाइटेड उत्तर प्रदेश के प्रदेश अध्यक्ष डा. आर.एस. पटेल के नेतृत्व में सरदार पटेल की जयंती के पूर्व संध्या पर प्रदेशव्यापी सरदार संदेश सद्भावन यात्रा प्रदेश के तमाम जिलों में निकाली गयी। इसी क्रम में वाराणसी में भी यात्रा 1.30 बजे दोपहर में कचहरी सर्किट हाउस से प्रदेश अध्यक्ष द्वारा हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया। यह यात्रा नदेसर, चौकाघाट, तेलियाबाग, मलदहिया, सिगरा, कैंट, अंधरापुल से होते हुए मलदहिया चौराहे पर पहुुंचा। जदयू के कार्यकर्ताओं ने वहां पहुंचने पर सरदार पटेल की प्रतिमा स्थल धूल व मिट्टी से सना हुआ पाया, जिससे कार्यकर्ताओं में काफी नाराजगी दिखी।

तत्पश्चात कार्यकर्ताओं ने प्रतिमा परिसर की अच्छी तरह सफाई व धुलाई कर युवा जनता दल यूनाइटेड उत्तर प्रदेश के प्रदेश अध्यक्ष डा. आर.एस. पटेल द्वारा प्रतिमा पर माल्यार्पण किया गया। श्री पटेल ने कहा कि सरकार का महापुरूषों के प्रतिमा स्थल पर बहुत ही रूखा रवैया रहता है, जबकि स्वच्छता के नाम पर करोड़ों रूपये पानी में बहा दिया जाता है। सरकार को चाहिए की सभी महापुरूषों के प्रतिमा स्थलों को संज्ञान में लेते हुए परिसर को साफ व स्वच्छ कराने का अभियान चलाये। डा. पटेल ने कहा कि सरदार पटेल देश के ऐसे नेता थे जिन्होंने दुनिया के सामने अखण्ड भारत की तस्वीर पेश की।

पटेल विरोधी है देश व प्रदेश की सरकारें 

उन्होंने कहा जब ब्रिटिश सरकार में अंग्रेजों ने किसानों पर 30 प्रतिशत का कर लागू किया था, जिसके खिलाफ बारदोली आंदोलन की अगुवाई श्री सरदार पटेल ने किया और अंग्रेजों को झुकना पड़ा। आंदोलन के सफलता के पश्चात किसान महिलाओं ने लौहपुरुष को सरदार की उपाधि दी। डा. पटेल ने आगे कहा कि सरदार पटेल ने देश की 563 से ज्यादा रियासतों को एकीकरण कर अखण्ड भारत का निर्माण किया। लेकिन यहीं आज के कुछ नेता देश को धर्मों की तुष्टीकरण की राजनीति कर देश को कई धाराओं में बाटने की कोशिश कर रहे हैं। पूरे देश के युवाओं को सरदार पटेल के विचारों को आत्मसात करना चाहिए।

सरदार पटेल नहीं होते तो आज का विशाल भारत कई टुकड़ियों का देश होता। आगे श्री पटेल ने कहा कि दुनिया के तमाम अर्थशास्त्रियों का मानना है कि अगर भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पं. जवाहर लाल नेहरु की जगह सरदार पटेल होते तो आज का भारत दुनिया का सबसे ताकतवर और समृद्ध भारत होता। प्रदेश अध्यक्ष ने आगे कहा कि सरदार पटेल जयंती सहित तमाम महापुरुषों की सार्वजनिक अवकाश उत्तर प्रदेश सरकार ने समाप्त कर घोर अपराध किया है। उनके इस बात क ा सभी मौजूद सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने हाथ उठाकर समर्थन दिया कि सरदार पटेल जी की जयंती पर सार्वजनिक अवकाश होना चाहिए।

आखिर पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी के अवकाश को क्यों नहीं समाप्त किया गया। ये सरकारें महापुरुषों की उपेक्षा कर रही हैं। युवा जनता दल यूनाइटेड इन्हीं मुद्दों को लेकर सद्भावना यात्रा के दिन देश व प्रदेश की सरकारों से मांग की। सरदार पटेल जयंती का सार्वजनिक अवकाश पूरे देश में घोषित किया जाय। इस मौके पर युवा जदयू के प्रदेश महासचिव हेमन्त सिंह, प्रदेश सचिव इन्द्रजीत पटेल, जिलासंयोजक राममूरत पटेल, सुरेश वर्मा, संजय, सुरेश राजभर सहित सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद रहे।

Khabarvision.com
Load More Related Articles
Load More By Raj Kumar
Load More In वाराणसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

दिल्ली : आचार संहिता लागू, 4 दिन में हटे 60 हजार से अधिक पोस्टर, बैनर-होर्डिंग

41,353 total views, 1,118 views today नई दिल्ली। चुनाव आचार संहिता लागू होने के …