Home मनोरंजन लाइफ स्टाइल 22 दिसंबर होगा वर्ष का सबसे छोटा दिन, पढ़िए रोचक जानकारी

22 दिसंबर होगा वर्ष का सबसे छोटा दिन, पढ़िए रोचक जानकारी

8,867 total views, 6 views today

वैसे तो दिन और रात का होना एक सामान्य घटना है लेकिन आने वाले 22 दिसंबर का दिन खगोलीय दृष्टि से खास होगा। यह साल का सबसे छोटा दिन होगा। ऐसा इसलिए होगा क्योंकि इस दिन मकर रेखा पृथ्वी के सर्वाधिक निकट होगी। इसी के चलते इस दिन की अवधि कम होगी। दिन जल्दी ढल जाएगा जबकि रात लंबी होगी। खगोल विज्ञान की भाषा में इसे विंटर सोल्‍टाइस अथवा दिसंबर दक्षिणायन कहा जाता है जो कि हर साल 21 या 22 दिसंबर को आता है। इस दिन के बाद से ही ठंड बढ़ जाती है। आइये जानते हैं यह क्या है और कैसे घटित होता है।

इसलिए होता है ऐसा

तकनीकी भाषा में समझें तो हमारी पृथ्‍वी नार्थ और साउथ दो पोल में विभाजित है। साल के अंत में 21 दिसंबर को सूर्य पृथ्वी के पास होता है और उसकी किरणें सीधे ही मकर रेखा पर होती हैं। चूंकि सूर्य पृथ्वी के निकट होता है इसलिए इसकी उपस्थिति महज 8 घंटों की ही रहती है। जैसे ही शाम को सूर्य ढलता है तो वह रात सबसे लंबी रात होती है। यह 16 घंटे की रात होती है।

यह एक नियमित खगोल घटना है जो कि एक निश्चित समय पर स्वत: घटित होती है। इस दिन के बाद से ही जाड़ा शबाब पर चढ़ता है। सूर्य का दक्षिणायन होना इसकी प्रमुख वजह है। इस समय सूर्य मकर रेखा के उपर है, जिसके चलते दक्षिणी गोलार्ध में अभी गर्मी का मौसम है। उत्‍तरी गोलार्ध में सूर्य की किरणें सीधी न पड़ते हुए आड़ी पड़ने के चलते ही यहां ठंड का मौसम है।

यह है दिसंबर दक्षिणायन

समूचे विश्व में दक्षिणायन एक साथ होता है। उत्तरी गोलार्ध पर सूर्य का झुकाव 23.5 डिग्री होता है। इस कारण यह साल का सबसे छोटा दिन बन जाता है। ऐसा माना जाता है कि इस घटना के बाद से ही जाड़े का भी आरंभ हो जाता है।

इस साल का हाल

इस वर्ष 22 दिसंबर 2017 को दक्षिणायन की घटना गुरुवार को होगी। अनुमान के अनुसार यह दिन 10 घंटे, 19 मिनट और 10 सेकंड की अवधि का होगा।

कहां कितनी अवधि का दिन

भारत की राजधानी दिल्‍ली में 10 घंटे, 19 मिनट का दिन होगा। चीन की राजधानी बीजिंग में दिन की अवधि 9 घंटा, 20 मिनट होगी। न्‍यूयार्क में 9 घंटा, 15 मिनट , टोक्‍यो में 9 घंटा, 44 मिनट और लॉस एंजेलिस में 9 घंटे, 53 मिनट का दिन होगा।

क्या कहती है ज्योतिष गणना

ज्योतिष गणना के मुताबित वर्ष में दो बार ऐसा समय आता है जब सूर्य की स्थिति में परिवर्तन आता है। इन्हें उत्तरायण और दक्षिणायन कहा जाता है। ज्योतिष के अनुसार सूर्य, मकर, कुंभ, मीन, मिथुन, वृषभ और मेष राशि में भ्रमणशील रहता है। इसके पश्चात 21 जून से सूर्य दक्षिण गोलार्ध में विचरण करता है जिनमें वृश्चिक, धनु, सिंह, कन्‍या, तुलना, कर्क आदि राशियां होती हैं।

Khabarvision.com
Load More Related Articles
Load More By Raj Kumar
Load More In लाइफ स्टाइल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

दिल्ली : आचार संहिता लागू, 4 दिन में हटे 60 हजार से अधिक पोस्टर, बैनर-होर्डिंग

41,318 total views, 1,083 views today नई दिल्ली। चुनाव आचार संहिता लागू होने के …